UP Tent House: प्रयाग और वाराणसी के बाद अब इस टेंट सिटी में रात गुजारें, ‘रामलला’ के करीब, होटल बुकिंग की भी नहीं चिंता

UP Tent House: वाराणसी और प्रयागराज कुंभ के बाद अब अयोध्या में सरयू नदी के किनारे श्रद्धालुओं के लिए टेंट सिटी बनाने की योजना है। अयोध्या आने वाले श्रद्धालु जल्द ही सरयू नदी के तट पर टेंट सिटी में ठहर सकेंगे। वाराणसी में, क्षेत्र में पर्यटन की संभावनाओं का दोहन करने के लिए गंगा नदी के तट पर एक टेंट सिटी की परिकल्पना की गई है। यह परियोजना शहर के घाटों के सामने विकसित की गई है, जो विशेष रूप से काशी विश्वनाथ धाम के उद्घाटन के बाद से वाराणसी में रहने की सुविधा प्रदान करेगी और पर्यटकों की बढ़ती संख्या को पूरा करेगी।
पर्यटकों के रहने की स्थायी सुविधाएं
अयोध्या के पर्यटन अधिकारी आरपी यादव के मुताबिक, अयोध्या में प्रयागराज कुंभ और वाराणसी की तरह टेंट सिटी बनाने की योजना है। नया घाट के पास पर्यटन विभाग की जमीन पर टेंट सिटी बनाने का सुझाव दिया जा रहा है। यहां एक टेंट सिटी बनाई जाएगी, जिसमें पर्यटकों के रहने की स्थायी सुविधाएं होंगी।
यादव ने कहा, ‘जो भक्त कल्पवास का पालन करते हैं- अयोध्या में नदी के किनारे कम रहते हैं और मंदिरों और मठों में निवास करते हैं, उन्हें टेंट सिटी में सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।’ बताया गया कि पर्यटन विभाग भूमि की आपूर्ति करेगा और निवेशक टेंट की व्यवस्था देखेंगे।
होटल बुक करके नहीं आए तो No worry
अधिकारी के अनुसार, अयोध्या का दौरा करने वाले कनाडा के भारतीय मूल के चिकित्सकों के एक समूह ने टेंट शहर के विकास में निवेश करने में रुचि व्यक्त की। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने इस कदम की सराहना की। उन्होंने कहा, ‘बिना होटल बुकिंग के बाहर से आने वाले पर्यटकों को अब ठहरने के लिए अच्छी जगह मिलेगी। टेंट सिटी में रहने के लिए उनका स्वागत है।’

दास ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी सराहना करते हुए कहा कि वह ‘अयोध्या के बारे में बहुत कुछ सोचते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘अयोध्या में टेंट सिटी बनाने का यह सुझाव सम्मानजनक है। यह एक अद्भुत विचार है और हम इसकी सराहना करते हैं। प्रयागराज और वाराणसी में अभी टेंट टाउन बनाए जा रहे हैं।’

राम मंदिर निर्माण कहां पहुंचा?
वहीं, राम मंदिर ट्रस्ट के सचिव चंपत राय ने कहा कि यहां राम मंदिर का निर्माण आधे से अधिक पूर्ण हो चुका है और गर्भगृह अगले साल की ‘मकर संक्रांति’ तक मूर्ति स्थापित करने के लिए तैयार हो जाएगा।

बता दें कि वाराणसी में टेंट सिटी को वाराणसी विकास प्राधिकरण द्वारा पीपीपी मोड में विकसित किया गया है। पर्यटक आसपास के विभिन्न घाटों से नावों द्वारा टेंट सिटी पहुंचेंगे। टेंट सिटी हर साल अक्टूबर से जून तक चालू रहेगी और बारिश के मौसम में नदी के जल स्तर में वृद्धि के कारण तीन महीने के लिए खत्म हो जाएगी।

Leave a comment